ऑटो & टेकखेलछत्तीसगढदेशबिज़नेसमनोरंजनराजनीतिविदेशशिक्षाहेल्थ

समय का चक्र घूम गया, अंग्रेजों ने भी सोचा नहीं होगा… UK में ऋषि’राज’ आने पर गदगद भारतीय

नई दिल्ली: दिवाली की शाम लोग दीये जलाने की तैयारी कर रहे थे लेकिन नजरें टीवी चैनल और न्यूज वेबसाइट पर लगी थीं। भारतीयों की उत्सुकता अपने देश की किसी खबर को लेकर नहीं, बल्कि अंग्रेजों के देश के लिए थी। जैसे ही चैनलों पर खबर फ्लैश हुई, दिवाली के दिन भारतीयों को सबसे बड़ा गिफ्ट मिल गया। 200 साल तक भारत पर राज करने वाले अंग्रेजों के मुल्क को अब एक भारतवंशी चलाएगा। जी हां, ऋषि सुनक (Rishi Sunak) ब्रिटेन के अगले पीएम होंगे। 28 अक्टूबर को वह शपथ ले सकते हैं। सोशल मीडिया से लेकर घर की बैठकों तक ‘ऋषि राज’ की चर्चा हो रही है। भारत में कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों, केंद्रीय मंत्रियों और नेताओं ने बधाई देते हुए इसे भारत के लिए गौरवशाली क्षण बताया। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने कहा कि ब्रिटेन ने 200 साल तक भारत पर शासन किया, लेकिन उन्होंने कभी सोचा भी नहीं होगा कि भविष्य में ऐसा भी कुछ हो जाएगा। ऋषि का भारत से सीधा कनेक्शन है। ब्रिटिश राज में उनके दादा-दादी यहीं रहते थे और उनकी पत्नी इन्फोसिस के सह संस्थापक नारायण मूर्ति की बेटी हैं।

बधाई ऋषि, हमें आप पर गर्व है और हम आगे भी आपकी सफलता की कामना करते हैं। हमें विश्वास है कि आप यूके के लोगों के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान देंगे।

दामाद ऋषि सुनक के लिए इन्फोसिस सह-संस्थापक नारायण मूर्ति का संदेश

कर्नाटक के सीएम ने कहा, ‘आज कई देशों में भारतीय सांसद हैं। अब, ऋषि सुनक ब्रिटेन के नए प्रधानमंत्री चुने गए हैं। समय का चक्र पूरी तरह से घूम गया है।’ भारतीय मूल के ऋषि सुनक ब्रिटेन के नए प्रधानमंत्री बनकर इतिहास रचेंगे। ठीक दिवाली के दिन पेनी मॉर्डंट के दौड़ से हटने की घोषणा के बाद सुनक को कंजरवेटिव पार्टी का निर्विरोध नेता चुन लिया गया है।

भारतीय ऋषि सुनक के चुने जाने का जश्न मना रहे लेकिन क्या यहां यह हो सकता है? कांग्रेस नेता ने पूछा
दीपावली के दिन भारतीयों के लिए गर्व का पल
केंद्रीय मंत्री प्रल्हाद जोशी ने कहा, ‘यह एक गर्व का क्षण है। मैं उनकी (ऋषि सुनक) सफलता की कामना करता हूं।’ हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर ने ट्विटर पर कहा, ‘भारतीय मूल के ब्रिटेन के पहले प्रधानमंत्री चुने जाने पर ऋषि सुनक को बधाई। दीपावली के पावन अवसर पर दुनिया भर के भारतीयों के लिए वास्तव में यह गर्व का क्षण है।’ दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सुनक को बधाई देते हुए ट्विटर पर कहा, ‘जबरदस्त खबर। भारतीय पूरी दुनिया में अपनी छाप छोड़ रहे हैं। ऋषि सुनक को ब्रिटेन का प्रधानमंत्री बनने के लिए मेरी शुभकामनाएं। उन्हें देश का नेतृत्व सफलतापूर्वक करने के लिए ज्ञान और शक्ति की कामना करता हूं।’

दिवाली पर ब्रिटेन को मिला पहला हिंदू पीएम, दो साल पहले ऋषि सुनक ने डाउनिंग स्‍ट्रीट पर जलाये थे दीये
गौरव की बात करते हुए महबूबा का तंज
जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने सुनक के ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बनने को गौरवशाली क्षण बताते हुए कहा कि ब्रिटेन ने एक जातीय अल्पसंख्यक को अपने प्रधानमंत्री के रूप में स्वीकार किया है, लेकिन हम अभी भी एनआरसी और सीएए जैसे विभाजनकारी और भेदभावपूर्ण कानूनों से बंधे हुए हैं। कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने ट्विटर पर सुनक को बधाई देते हुए कहा, ‘कंजरवेटिव पार्टी के वरिष्ठ नेता और ब्रिटेन के नये प्रधानमंत्री बनने जा रहे ऋषि सुनक को हार्दिक बधाई। वह हमारे कर्नाटक से जुड़े हुए हैं। मैं इंफोसिस के संस्थापक एन आर नारायणमूर्ति और सुधा मूर्ति के दामाद ऋषि सुनक के निर्वाचन से अभिभूत हूं।’

ऋषि सुनक को हार्दिक बधाई! चूंकि आप ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बनने वाले हैं, मैं वैश्विक मुद्दों पर एक साथ मिलकर काम करने और रोडमैप 2030 को लागू करने के लिए उत्सुक हूं। ब्रिटिश भारतीयों के ‘जीवंत सेतु’ को दिवाली की विशेष शुभकामनाएं। हमने ऐतिहासिक संबंधों को आधुनिक साझेदारी में बदला है।

पीएम नरेंद्र मोदी

एक समय था जब ब्रिटिश भारत पर शासन करते थे…
भाजपा के नेता और पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने अपने बधाई संदेश में कहा कि मुझे यकीन है कि सुनक अपने देश को बड़ी सफलता की ओर ले जाएंगे। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पंजाब में विपक्ष के नेता प्रताप सिंह बाजवा ने सुनक को बधाई दी और कहा कि उन्हें विश्वास है कि वह सभी चुनौतियों से पार पा लेंगे। उन्होंने भी कहा, ‘एक समय था जब ब्रिटिश अपने उपनिवेश के तौर पर भारत पर शासन करते थे और अब भारतीय मूल के ऋषि सुनक ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बनने जा रहे हैं।’

सुनक का भारत कनेक्शन
ऋषि सुनक के माता-पिता सेवानिवृत्त डॉक्टर यशवीर और फार्मासिस्ट उषा सुनक भारतीय मूल के हैं। 1960 के दशक में वे केन्या से ब्रिटेन आए थे। सुनक की शादी इन्फोसिस के सह-संस्थापक नारायण मूर्ति की बेटी अक्षता मूर्ति से हुई है। सुनक दंपति की दो बेटियां हैं। सुनक का जन्म साउथेम्प्टन में हुआ था। सुनक के दादा-दादी भारत में ब्रिटिश शासन के दौरान पैदा हुए थे, लेकिन उनका जन्मस्थान अब पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में स्थित गुजरांवाला में पड़ता है।

Source link

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

You cannot copy content of this page